नशे में दोस्त के दोस्त की गांड चोदा

नशे में दोस्त के दोस्त की गांड चोदा

hindi sex story, hindi sex story

हाय दोस्तों कैसे हैं आप सभी ? मैं आशा करता हूँ कि आप सभी अच्छे होंगे | दोस्तों आज मैं बहुत नशे में हूँ इसलिए मैं आज कहानी लिख रहा हूँ | वो क्या आज अपने बड्डा का जन्मदिन था तो पार्टी हो गई | मेरा नाम नीलेश है और मैं जबलपुर का रहने वाला हूँ | मेरी उम्र 25 साल है और मैं दिखने में गोरा हूँ | मेरी हाईट 5 फुट 10 इंच है और मेरा बदन अच्छा खासा फिट है | दोस्तों मैं इस साईट का रोज का पढने वाला हूँ रीडर हूँ और मुझे कहानियां पढना बहुत अच्छा लगता है चाहे वो चुदाई की कहानी ही क्यूँ न हो | मैं हर एक कहानी बहुत मन लगा कर पढता हूँ | आज मैं नशे में हूँ इसलिए मैं कहानी लिख रहा हूँ वरना झांट में कोई कहानी लिखता | खैर, आज जो मैं आप लोगो के सामने अपनी कहानी लिखने जा रहा हूँ ये मेरी पहली कहानी है और मेरे जीवन की एक दम सच्ची घटना है जो आज हुई है | तो मैं आशा करता हूँ कि आप सभी को मेरी कहानी जरुर पंसद आएगी और न आये तो गांड मरवा लेना मेरे से | अब मैं कहानी लिखने जा रहा हूँ इसलिए शांति से रहिओ |

ये घटना आज की ही है | आज सुबह मैं उठा मुझे एहसास हुआ कि मुझे अपनी लाइफ में आगे बढ़ना है तो मुझे पढाई करना जरुरी है | इसलिए मैंने पहले राजश्री खाया और हगने चला गया | हग के आने के बाद मैंने फिर राजश्री खाया और खत्म होने के बाद मैं ब्रश किया | उसके बाद मैं दस बजने का इन्तेजार करने लगा | जैसे ही दस बजे तो मैंने सोचा कि अब तक तो बुक हाउस खुल गया होगा तो मैं किताबे खरीद लूँगा | जैसे ही मैं दूकान पंहुचा तो देखा कि वो तो बंद है | तभी मेरा एक दोस्त मिल गया उसने मुझसे पुछा की दारू पिएगा तो उस समय तो मैंने मना कर दिया |  मैं राजश्री खाने के लिए रुक गया | पता नहीं क्या हुआ मेरे मन में ख्याल आया कि चलो दारू पी ली जाये | मेने राजश्री खाया और सीधा अपनी गाडी कालारी लगा दिया मेने दुकान से बकार्डी लिया और जहा मैं काम करता था वहा आया | वहां मैंने बोतल रखवा दिया | उसके बाद मैं घर चला गया | जब मैं घर से वापस आया तो मैंने पुछा अपने सेठ से पुछा की पारस को फोन लगाया क्या ? सेठ ने कहा नही लगाया | मैंने  कहा कोई बात नही | मैंने उसको कई बार फोन लगाया पर उसने मेरा एक वी बार फोन नहीं उठाया | मैं समझ गया कि आज दारू खोरी नही होगी | अभी मेरे साथ का एक लौंडा आया जिसका नाम रोहित है |

आज उसका जन्मदिन है | उसके साथ मेरे सेठ के चाचा भी आते है |मुझे तो लग रहा था कि आज व्यवस्था नही हो पाएगी | में फिर भी लगातार पारस को फोन लगा रहा था | पर उसने फ़ोन तब भी नहीं उठाया | मैंने पूरी तरह से खुद को मना लिया था कि नीलेश आज तो मुश्किल है दारु पीना | तभी पारस का फ़ोन आया मेरे पास तो मैंने पुछा कि अबे तू फ़ोन क्यूँ नही उठाया ? तो उसने कहा कि यार मेरा फ़ोन मेरे बैग में रखा था इसलिए मैंने नहीं उठाया | मैंने कहा चल कोई बात नहीं | उसने पुछा कि क्या हुआ ? तो मैंने कहा अबे दारु पीना था | उसने कहा चल मैं अभी आता हूँ |  उसका इन्तेजार करते हुए रोहित भैया भी आ गए | उसके बाद हम सब ने चिकिन के साथ दारु पी लिए | उसके बाद एक लड़का था जो सेठ जी का दोस्त था उसका नाम हर्षित है | वो दिखने में पतला है और उसकी हाईट 5 फुट 9 इंच है | वो दिखने में कोई ज्यादा कोई खास तो नहीं है पर ठीक ठाक है | वो भी हमारे साथ बैठ कर दारु पीने लगा | दारू पीते पीते उसको ज्यादा नशा हो गया | वो अपने हाँथ को दीवार पर मारने लगा  | हम लोग सभी समझ गये थे कि ये बकचोदी कर रहा है साले को नशा हो गया है | फिर हर्षित मेरे पास आया और मेरे लंड पर हाँथ फेरने लगा | अब नशे में तो मैं भी जोश में आ गया तो मैंने उसका कोई विरोध नहीं किया | अब उसकी हिम्मत बढ़ चुकी थी और मैं भी अब नशे में था |

मैं समझ गया कि इसको चुदाई चाहिए | मैं उसके अलग से एक कमरे में ले कर गया तो वो मेरे बांहों में आ कर मुझसे लिपट गया | फिर उसने मेरे होंठ में अपने होंठ रख दिया और मेरे होंठ को चूसने लगा | मैं भी उसका साथ देते उसके होंठ को चूसने लगा | वो मेरे होंठ को चूसते हुए मेरे लंड को दबा रहा था जीन्स के ऊपर से ही और मैं उसके होंठ को चूसते हुए उसकी पतली सी गांड दबा रहा था | हम दोनों ने दस मिनट तक किस किये | उसके बाद मैंने अपनी टी-शर्ट को उतार दिया और वो मेरी छाती पर हाँथ फेरने लगा और फिर अपने घुटनों के बल जमीन पर बैठ कर मेरे जीन्स को उतार दिया और मेरी अंडरवियर के ऊपर से ही मेरे लंड को मसलने लगा | फिर उसने मेरी अंडरवियर को भी उतार दिया और फिर मेरे लंड को अपने हाँथ में ले कर हिलाने लगा | फिर उसने मेरे लंड को अपनी जीभ से चाटने लगा तो मेरे मुंह से आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह की आवाज़ निकलने लगी | वो मेरे लंड पर जीभ से अच्छे से चाट कर गीला करा रहा था और मैं आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए सिस्कारियां ले रहा था | उसके बाद उसने मेरे लंड को अपने मुंह में भर लिया और मेरे लंड को चूसने लगा तो मैं आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए उसकी टी-शर्ट को उतार दिया | वो मेरे लंड को जोर जोर से आगे पीछे करते हुए चूस रहा था और मैं आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए उसके मुंह की चुदाई कर रहा था | मेरे लंड को चूसने के बाद उसने मेरे गोटों को अपने मुंह में ले कर चूसने लगा और मैं आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए मुट्ठ मार रहा था | फिर उसने अपने पतले लंड को बाहर निकाल लिया अपनी जीन्स और अंडरवियर को उतार कर | फिर मैंने उसके लंड को अपने हाँथ में ले कर हिलाने लगा और फिर अपनी जीभ से चाटने लगा तो उसके मुंह से भी आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह की सिस्कारियां निकलने लगी | मैं उसके लंड को हर तरफ से चाट रहा था और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए सिस्कारियां ले रहा था |

फिर मैंने उसके लंड को अपने मुंह में लें कर उसके सुपाडे को चूसने लगा और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए मजे ले रहा था  | मैं उसके लंड को जोर जोर से ऊपर नीचे करते हुए चूसने लगा और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए आन्हे भर रहा था | फिर मैंने उसे झुका दिया और उसकी गांड में अपना लंड डाल दिया और चोदने लगा शॉट मारते हुए तो वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए अपने मुंह में हाँथ डाल रहा था और अन्दर बाहर कर रहा था | कुछ देर के बाद मैंने अपनी चुदाई तेज कर दिया और जोर जोर से शॉट मारते हुए चोदने लगा और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए अपनी गांड आगे पीछे करते हुए चुदाई में साथ दे रहा था | फिर मैंने उसके लेटा कर उसकी टांगो को अपने कंधे में रख कर अपना लंड उसकी गांड में डाल कर चोदने लगा और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए चुदाई के मजे ले रहा था | करीब आधे घंटे की चुदाई के बाद मैंने अपना माल उसकी गांड में ही छोड़ दिया |

तो दोस्तों ये थी मेरी कहानी | मैं आशा करता हूँ कि आप सभी को मेरी कहानी जरुर पसंद आई होगी |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *