दिल्ली की दो गुमनाम चूत

दिल्ली की दो गुमनाम चूत

हाय फ्रेंड्स, मैं शुभम के आप के सामने फिर से एक नयी कहानी ले कर पेश हुआ हूँ | मैंने पिछली जितनी भी कहानिया आप लोगो को सुनाईहै | सभी का उन कहानियो को पढने के लिए धन्यवाद | मुझे बहुत सारे मेल्स भी मिले और कमेंट भी | कई लोगो ने मेरा नंबर भी माँगा और मैंने उन्हें अपना नंबर जो मुझे पसंद आये | उनमे से कई भाभी ने मुझे अपने घर बुलवा कर चुदवाया भी |

मेरा नाम शुभम है और मैं बिहार का रहने वाला हूँ | आप सभी को मेरे में पता ही है तो बस मैं अपने बारे में इतना ही बताता हूँ | चलिए आप का ज्यादा समय ना लेते हुए अब मैं सीधा कहानी शुरू करता हूँ |

ये घटना तब की है जब मैंने दिल्ली काम कि तलाश में गया हुआ था | मैं कई जगह अपना बायोडाटा दिया कई जगह इंटरव्यू के लिए भी गया पर नहीं हो पा रहा था | मैं बहुत निराश हो गया था कि यार मुझे पैसे कमाने है और यहाँ मादरचोद किस्मत ही दगा दे रही है | गुस्सा भी आ रहा था और निराश भी था | फिर भी मैं हिम्मत न हारते हुए जॉब की तलाश ही कर रहा था | एक दिन की बात है जहाँ मैं रहता था वही सामने एक मस्त आइटम रहती थी | वो मुझे रोज लाइन मारा करती थी पर मैं अपना ध्यान सिर्फ जॉब में लगाना चाहता था | जॉब मल नहीं रही थी तो मैंने सोचा कि उसे बात कर ही ली जाये | एक दिन शाम को मैं छत पर खड़ा हुआ था वो भी छत पर आई और मुझे ताड़ने लगी | मैंने उसे हाँथ दे दिया तो उसने भी अपना हाँथ हिला के अपनी इच्छा जाहिर की | मैंने उससे इशारे में कहा कि मैं आऊँ क्या तुम्हारे पास ? तो उसने कहा कि नहीं अभी नहीं 7 बजे आना | मैंने बोला ठीक है और वादा किया कि मैं 7 बजे घर आऊंगा | उसके बाद 6 बजे ही अँधेरा हो गया क्यूंकि ठण्ड का टाइम था |

जैसे ही घडी में 7 बजे तो मैं उसके घर जाने लगा और रस्ते में देख भी रहा था कि कोई मुझे देख तो नही रहा है उसके घर जाते हुए | जैसे ही मैं उसके घर पंहुचा तो दरवाजे पे खड़े हो कर मेरा ही इंतज़ार कर रही थी | फिर मैं उसके घर के अन्दर गया तो देखा कि वहां कोई नही है | तो मैंने उससे पूछा कि घर पे कोई नही है क्या ? तो उसने कहा कि मैं यहाँ अकेले रहती हूँ अपनी फ्रेंड के साथ पर वो अभी अपने गाँव गयी हुई है तो मैं अकेले ही हूँ | उसके बाद वो कभी अपने दूध दबाती तो कभी अपनी चूत रगड़ने लगती | तो मैंने उससे कहा कि क्यूँ ज्यादा गरमी लग रही है क्या ? तो वो सीधा मेरी गोद में आ कर बैठ गयी और दोनों गले में हाँथ डाल के बोली कि हाँ, तू ठंडी कर दे गरमी | फिर क्या था, मैं तुरंत ही उसे पकड के उसके होंठो में अपने होंठ रख किस करने लगा | वो भी मेरा साथ दे रही थी और मेरे सिर के बाल सहला रही थी | मुझे उसके साथ किस करने में बहुत मजा आ रहा था और उसे भी | फिर मैंने उसके टॉप को उतार दिया और उसने ब्रा नहीं पहनी थी  | अब मैं उसके बड़े बड़े दूध के निप्पल चूस चूस कर उसके दूध पीने लगा और वो मदहोशी के आलम में आआहाआह ऊउन्न् आहाहाह ऊउम्म्म ऊनंह अआहा आअह्ह्हाअ अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः करते जा रही थी |

मैं जोर जोर से उसके दूध को दबाते हुए पी रहा था और वो आआहाआह ऊउन्न् आहाहाह ऊउम्म्म ऊनंह अआहा आअह्ह्हाअ अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः करते हुए सिस्कारिया ले रही थी | उसके दूध को मैंने 10 मिनट तक खूब चूसा था, फिर वो नीचे बैठ कर मेरे जीन्स का बटन खोल दी और चड्डी के साथ ही उतार दी | मेरा लंड एक दम उसके मुंह के सामने आ गया तो वो बोली यार तुम्हारा लंड तो बहुत बड़ा और मोटा है | तो मैंने कहा तुम्हे पसंद आया मेरा लंड तो उसने हाँ में सिर हिलाते हुए उसे चाटने लगी और मैं आआहाआह ऊउन्न् आहाहाह ऊउम्म्म ऊनंह अआहा आअह्ह्हाअ अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः करने लगा | मेरे लंड को चाटने के बाद उसने अपने मुंह में पूरा लंड चूस ने लगी वो बहुत मजे से मेरा लंड चूस रही थी और मैं आआहाआह ऊउन्न् आहाहाह ऊउम्म्म ऊनंह अआहा आअह्ह्हाअ अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः कर रहा था | मुझे बहुत अच्छा लग रहा था जब मेरे लौड़े को मुंह में अन्दर तक चूस रही थी | जब उसने मेरा लंड 10 मिनट तक अच्छे से चूस लिया तो मैंने उसे सोफे पे ही लेटा दिया और उसकी लेगी उतार दिया पेंटी के साथ ही | उसकी चूत मोटी थी और चिकनी भी | मैं उसकी गांड में ऊँगली डाल के उसकी चूत चाटने लगा और वो आआहाआह ऊउन्न् आहाहाह ऊउम्म्म ऊनंह अआहा आअह्ह्हाअ अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः करने लगी | वो मेरा सिर पकड के अपनी चूत में दबा रही थी और आआहाआह ऊउन्न् आहाहाह ऊउम्म्म ऊनंह अआहा आअह्ह्हाअ अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः कर रही थी | मैं भी मजे ले ले कर उसकी चूत चाट रहा था | उसकी चूत चाटने के बाद मैं उसकी गांड भी चाटने लगा और वो जोर जोर से आआहाआह ऊउन्न् आहाहाह ऊउम्म्म ऊनंह अआहा आअह्ह्हाअ अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः कर रही थी |

उसकी गांड चाटने के बाद उसकी गीली चूत में अपने लंड को रगड़ते हुए गीला करने लगा | फिर एक ही झटके में मैंने अपना पूरा लंड उसकी चूत में डाल दिया और चोदने लगा और वो अपने दूध मसलते हुए आआहाआह ऊउन्न् आहाहाह ऊउम्म्म ऊनंह अआहा आअह्ह्हाअ अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः कर रही थी | मैं उसे जोर जोर से चोदने लगा और वो फ़क मी..फ़क मी हार्ड..ओह ! माय गॉड, फ़क मी.. येह,,येह कहते हुए आआहाआह ऊउन्न् आहाहाह ऊउम्म्म ऊनंह अआहा आअह्ह्हाअ अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः करते हुए सिस्कारिया ले रही थी | मैं जोर जोर से उसे चोद रहा था और फिर २० मिनट उसे चोदने के बाद मैंने अपना माल उसकी चूत में ही छोड़ दिया | फिर मैं थक के उसके बाजू में लेट गया तो वो फिर से मेरे लंड को चूस चूस कर खड़ा करने लगी और कहा की मुझे और चुदवाना है | मैंने उसे कहा कि हाँ क्यूँ नहीं ?जब मेरा लौड़ा फिर से तन के खड़ा हो गया तो मैंने उसकी गांड में वैसलीन लगाने लगा तो उसने पूछा कि गांड चोदोगे क्या ? तो मैंने कहा हाँ उसके बाद ही तुम्हारी चूत मरूँगा | उसके बाद मैंने भी अपने लंड में थोडा सा वैसलीन लगाया और एक ही झटके में पूरा लंड उसकी गांड में घुसेड दिया | उसकी चीख निकल गयी थी और कहने लगी थी कि अपना लंड निकालो मेरी गांड फट गयी है प्लीज टेक योर डिक आउट | पर मैं कहाँ सुनने वाला था मैं उसके दूध पकड के उसकी गांड जोर जोर से चोदने लगा और उसे भी मजा आने लगा और वो आआहाआह ऊउन्न् आहाहाह ऊउम्म्म ऊनंह अआहा आअह्ह्हाअ अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः करने लगी थी | अब वो भी मेरा साथ गांड चुदाई में साथ दे रही थी, और अपनी गांड आगे पीछे करते हुए चुदवा रही थी और साथ में आआहाआह ऊउन्न् आहाहाह ऊउम्म्म ऊनंह अआहा आअह्ह्हाअ अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः करते हुए आन्हे भर रही थी | उसकी गांड चुदाई के बाद मैंने उसकी चूत फिर से चोदा और फिर उसकी चूत में अपना माल छोड़ दिया |

अब मैं उसकी चूत की और गांड की रोज चुदाई करने लगा | मैंने उसकी रूममेट को कभी नहीं देखा था | गाँव से आने के बाद उसने मुझे उससे मिलवाया और मैंने उसे भी चोदा था | अब मेरी जॉब भी एक कंपनी में लग गयी थी तो मैं यहीं रहता हूँ | और उन दोनों लडकियों कि रोज चूत और गांड चोदता हूँ |

दोस्तों ये मेरे जीवन कि एक दम सच्ची घटना है | मैं उम्मीद करता हूँ कि आप सभी को मेरी ये कहानी भी पसंद आयगी और वादा करता हूँ की मैं आप लोगो के लिए ऐसी ही मजेदार कहानिया लिखता रहू और आप सभी का मनोरंजन करता रहू | आप सभी का मेरी कहानी को पढने के लिए धन्यवाद !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *